Skip to Content

सुरक्षा योजना बनाने के लिये जाँच-सूची

यह जाँच-सूची उन चीजों के लिये एक गाइड है जो आप सुरक्षा में सहायता के लिये कर सकते हैं।

यदि आप स्वयँ के लिये, परिवार के किसी सदस्य के लिये या क्लाइंट के लिये भयभीत हैं तो, पुलिस सहायता के लिये 000 पर फोन करें।
आपातकाल में TTY (टेलिटाइपराइटर) अथवा नेशनल रीले सर्विस काम में लेते हुए फोन करने के लिये Calls to emergency services पर जायें।

घर पर सुरक्षा

एक परवाह वाली कम्युनिटी

  • प्रतिक्रिया देना प्रत्येक व्यक्ति का काम है। जिन पड़ोसियों पर आपको भरोसा है उन्हें बतादें कि यदि वे झगड़ा, चिल्लाना या शोर सुनें तो 000 पर पुलिस को फोन कर दें। फ्लैट्स या अपार्टमेंट्स में रहने वाले कुछ लोग थपथपाने या पैर घसीटने के गुप्त संकेत बनाते हैं ताकि वे अपने पड़ोसियों को सहायता बुलाने के लिये चौकन्ना कर सकें।

  • एक ऐसा स्थान नियत रखें, जहाँ आप, यदि आपको बाहर निकलना पड़े तो जा सकें। अपने पर्स या मोबाइल फोन में संपर्क सूची में अपने परिजनों तथा मित्रों के फोन नंबर्स रखें।

  • अपना स्वयँ का एक मोबाइल फोन तथा प्लान लें (प्रीपेड हो तो अच्छा रहेगा) ताकि आप लोगों से संपर्क बनाये रख सकें और फोन के बिल या कॉल लॉग्स से कॉल्स का पता न लग सके।

  • ऐसे समय के लिये बच निकलने की एक योजना तैयार रखें जब आपको लगे कि स्थिति नियंत्रण से बाहर जा सकती है।

बच निकलने की एक योजना बनाना

  • अपने घर/फ्लैट के सभी कमरों से, आपातस्थिति में शीघ्र बाहर निकला जा सके, ऐसे रास्तों के बारे में सोचें और उन पर अभ्यास करें।

  • आपको जल्दी में घर छोड़ना पड़े ऐसी स्थिति के लिये, एक छोटा सा बच निकलने का थैला (एस्केप बैग) कहीं रख लें जिसमें अतिरिक्त चाबियां, महत्वपूर्ण दस्तावेज, बच्चों के लिये एक विशेष खिलौना हो। यदि आपको डॉक्टर की लिखी दवाओं की जरुरत रहती हो तो, डॉक्टर की लिखी दवा की पर्ची की एक अतिरिक्त प्रति अपने बच निकलने के थैले में रखें।

  • अतिरिक्त चाबियों, महत्वपूर्ण दस्तावेजों, बैंक कार्ड्स वगैरह की प्रतिकृतियां (कॉपीज) अपने परिवार के किसी सदस्य, मित्र या भरोसेमंद व्यक्ति के पास रख दें।

  • यदि आपको गतिशीलता संबंधी कोई परेशानी या कोई अक्षमता हो तो, पहले से ही यह व्यवस्था कर लें कि आपका कोई मित्र आपके द्वारा फोन या टैक्स्ट करते ही तुरंत आपके पास आ जाये। कुछ लोग एक कोड वर्ड, जिस पर पूर्व सहमति हो गई हो काम में लेते हैं। इस तरीके से आप उस समय भी फोन कर सकते हैं जब कर्ता आपको सुन सकता हो।

  • यदि ऐसा करना सुरक्षित हो तो, दुर्व्यवहारपूर्ण तथा भयकारक घटनाओं की एक डायरी रखें। यदि आपको एक सुरक्षा आदेश लेना पड़ा तो ये बातें सहायता कर सकती हैं।

उपयोगी नंबर्स एकत्रित करना

  • कुछ उपयोगी पते तथा नंबर्स एकत्रित करने पर विचार करें, जैसे किः
    • स्थानीय टैक्सी सेवायें (यदि आपको जरुरत हो तो, सुलभ टैक्सी सेवायें)।
    • आपके राज्य या टेरीटोरी की संकटकालीन फोन लाइन।

    • निकटतम संकटकालीन संपर्क केन्द्र।

    • स्थानीय पुलिस चौकी का पता।

    • याद रखें कि आप हमेशा 1800RESPECT को 1800 737 732 पर फोन कर सकते हैं।

अलग होने के बाद सुरक्षा

  • यदि आप अपने साथी से अलग हो गये हों तो, बाहर की तरफ लाइट्स, खिड़कियों तथा दरवाजों पर अतिरिक्त तालें लगवा लें, यदि आप ऐसा करवा सकते हों तो। अक्सर पुलिस द्वारा आपके लिये एक सुरक्षा अपग्रेड जाँच की जाती है और आपके मकान या फ्लैट की सुरक्षा बढ़ाने के लिये विशेष सुझाव दिए जाते हैं। लागत में सहायता के लिये कुछ घरेलू तथा पारिवारिक हिंसा सेवाओं या पुलिस सेवाओं के पास धनराशि उपलब्ध होती है।

  • अपना मोबाइल नंबर बदल लें और उसे 'प्राइवेट' पर सैट करा लें। यदि आपको बच्चों के बारे में बातचीत करनी हो तो एक अलग सिम (SIM) कार्ड काम में लें।

  • सरकारी संस्थानों, उपयोग (युटिलिटी) कंपनियों, कानूनी संस्थानों, डॉक्टर्स, विद्यालयों आदि से कहें कि वे आपका विवरण असार्वजनिक (प्राइवेट) रखें।

  • महत्वपूर्ण डाक के लिये एक POबॉक्स ले लें अथवा अपने घर का पता असार्वजनिक रखें।

  • यदि आपके पास पहले से एक सुरक्षा आदेश नहीं हो तो उसे लेने के लिये किसी घरेलू तथा पारिवारिक हिंसा सेवा, एक सामाजिक वकील या पुलिस  से बात करें। इन बातों से पुलिस कुछ खतरों के बारे में पहले से ही सावधान हो सकती है।  उनको लिखा भी जा सकता है ताकि दुर्व्यवहारकर्ता के आपके कार्य-स्थल पर आने पर रोक लग जाये।

पब्लिक में या कार्य-स्थल पर सुरक्षा

  • अपनी कार को एक व्यस्त सार्वजनिक स्थल पर खड़ा करें। भूमिगत कार पार्क्स को टालें, यदि आपको उनका उपयोग करना ही पड़े तो, किसी से कहें कि वे आपके साथ आपकी कार तक जायें।

  • यदि आप अपने साथी या पूर्व साथी को देखें तो, जितना संभव हो उतनी जल्दी किसी सार्वजनिक या व्यस्त स्थल पर पहुँच जायें।

  • यदि आप अपने साथी से अलग हो चुके हों तो, अपने बॉस से पछें कि क्या आप, आपको आने वाले फोन कॉल्स तथा भेंटकर्ताओं (विजीटर्स) की रिसेप्शन पर स्क्रीनिंग करवा सकते हैं। यदि आप किसी सार्वजनिक स्थल जैसे कि किसी शॉपिंग सैन्टर में काम करते हों तो, वहाँ के सुरक्षा कर्मचारियों से बात करें और उन्हें अपने पूर्व साथी का फोटो दिखायें।

  • यदि आप अपने साथी से अलग हो चुके हों तो, अपनी दिनचर्या को नियमित रुप से बदलने का प्रयास करें। जहाँ भी संभव हो, अलग-अलग ट्रेन्स या ट्राम्स में सफर करें, घर या कार्यालय से अलग-अलग समय पर निकलें, अलग-अलग स्थानों पर या इंटरनेट पर खरीदारी करें।

  • अपने बॉस या सुरक्षा कर्मचारियों को ऐसे किसी भी सुरक्षा आदेश के बारे में बतायें जो आपके दुर्व्यवहारकर्ता को आपके कार्य-स्थल के आस-पास आने से रोकता हो। अपने उस आदेश की एक प्रति काम पर अपने बैग में रखें।

इंटरनेट पर सुरक्षा

  • एक सार्वजनिक कम्प्युटर (पुस्तकालय, सामुदायिक केन्द्र) अथवा किसी मित्र के कम्प्युटर का उपयोग करें जिस तक आपका दुर्व्यवहारकर्ता नहीं पहुँच सकता हो।

  • अपने तथा अपने बच्चों के फेसबुक खाते को बदल दें या समाप्त कर दें, अथवा उस पर पहुँच प्रतिबंधित करने के लिये अपनी प्राइवेसी सैटिंग्स का रिव्यु करें। लोग-बाग अनजाने में यह बता सकते हैं कि आप कहाँ रहते हैं या आप कहाँ होंगे।

  • अपना ईमेल अकाउंट बदल दें। उसे ऐसा बनायें कि उसका पता लगाना मुश्किल हो - अकाउंट नाम में अपने नाम या जन्म वर्ष का उपयोग नहीं करें।

  • एक कम्प्युटर तकनिशियन से स्पाईवेयर या कीस्ट्रोक लोगिंग प्रोग्राम्स (कम्प्युटर में की-बोर्ड के जो भी बटन दबायें जायें उनका रिकॉर्ड रखने वाले प्रोग्राम्स) के लिये अपने कम्प्युटर की जाँच करवायें।

बच्चों की सहायता करना

  • अपने बच्चों को यह जानने में सहायता करें कि खतरे के चेतावनी संकेत कब होते हैं।

  • उस बातचीत को अन्य सुरक्षा संबंधी संभावित वार्तालापों जैसे कि प्राकृतिक आपदा योजना, अग्नि सुरक्षा आदि के बारे में बातचीत की तरह ही व्यवहारिक रखें।

  • आपातकाल की स्थिति में बच निकलने के रास्तों का अभ्यास करें - इनके बारे में उसी समय बातचीत करें जब आप अग्नि या हरिकेन सुरक्षा अभ्यास के बारे में बता रहे हों।

  • अपने बच्चों को सिखायें कि दुर्व्यवहारकर्ता जब क्रोधित या हिंसक हो तो उसे रोकना उनकी जिम्मेदारी नहीं है।

  • अपने बच्चों को सिखायें कि किसी आपातकालीन स्थिति के समय वे किसे फोन कर सकते हैं या कहाँ जा सकते हैं। इसमें शामिल है 000 पर फोन करके पुलिस के लिये कैसे पूछा जाता है, और अपना पता कैसे दिया जाता है।

  • विद्यालयों या चाइल्ड केयर सेन्टर्स सहित स्कूल के अन्य माता-पिता, जिन पर आपको भरोसा हो, को हिंसा के बारे में बतायें। वे बात बढ़ने के लक्षणों पर निगाह रख सकते हैं तथा आपके बच्चे की, भावनात्मक देखभाल की आवश्यकताओं का ध्यान रखने में सहायता भी कर सकते हैं। एक परवाह वाली कम्युनिटी बच्चों को सुरक्षित रखने में सहायक होती है। विद्यालय या चाइल्ड केयर सेन्टर को अपने सुरक्षा आदेश की एक प्रति तथा कर्ता की एक फोटो दे दें, ताकि उन्हें पता रहे कि किस चीज का ध्यान रखना है।

घरेलू और पारिवारिक हिंसा: अपना ध्यान रखने की योजना कैसे बनाएं

1800RESPECT
21 AUG 2014

तुरंत खतरे के मामले में पुलिस की सहायता के लिये 000 पर फोन करें।

आपातकाल में TTY (टेलिटाइपराइटर) अथवा नेशनल रीले सर्विस काम में लेते हुए फोन करने के लिये Calls to emergency services पर जायें।